Tax Rules : विदेशी शेयर बाजार में निवेश से पहले जरुर जान लें इन नियमों को

US Stock Market Investment :

दोस्तों जैसा कि आप सभी जानते ही हैं कि विदेशी शेयर बाजार में निवेश करने का चलन देश के अन्दर बढ़ता जा रहा है! आज के समय में सभी भारतीय नागरिक अमेरिकी स्टॉक मार्केट में निवेश करना चाहते हैं ! देखा जाए तो यह काफी फायदेमंद भी साबित होता है क्योंकी विदेशी इक्विटी में पैसा इन्वेस्ट करने से पोर्टफोलियो में विविधता तो आती ही है साथ ही साथ मुद्रा उतार चढ़ाव का फायदा भी मिलता है ! मगर कई ऐसे Tax Rules हैं जो निवेशकों को नहीं पता होते हैं!

निवेशकों द्वारा वित्तीय उद्देश्यों को पूरा करने जोखिम के स्तर को कम करने के लिए पोर्टफोलियो में विवधता लाना बहुत जरुरी है ! विदेशी बाजारों में निवेश करने से बाजार के जोखिमों और अस्थिरता से निपटने में काफी हद तक मदद मिलती है ! ऐसा इसलिए होता है क्योंकी यह जरुरी नहीं कि जब देशी बाजार गिरावट और बिकवाली के दौर में हो तो विदेशी बाजार भी गिरावट की स्थिति में हों ! 

इसके साथ साथ मुद्रा के मूल्य में हो रहे उतार चढ़ाव से भी निवेशकों को काफी राहत रहती है ! इन्वेस्टर्स को इन्वेस्टमेंट पर रिटर्न डॉलर में रिटर्न मिलता है देश के अन्दर जब रुपया गिरता है तो विदेशी मुद्रा में निवेश का मूल्य बढ़ जाता है! और इस चीज का निवेशकों/इन्वेस्टर्स को दोहरा फायदा मिलता है ! वैसे सामान्यतः भारतीय कई देशों के शेयर बाजार में निवेश कर सकते हैं लेकिन ज्यादादर भारतीय US Stock Market में निवेश करना ही बेहतर समझते हैं ! इसका एक मुख्य कारण NSE (New York Stock Exchange) और NASDAQ का सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज होना है !

यह भी पढ़ें – us stock market me invest kaise kare : जानें पूरा प्रोसेस

स्टॉक मार्केट निवेश प्रक्रिया :

वर्तमान समय में देशी और विदेशी स्टॉक मार्केट में निवेश प्रक्रिया काफी आसान और सरल है कई ऐसे प्लेटफॉर्म्स हैं जो कि आपको ये सारी सुविधा प्रदान करते हैं ! ट्रेडिशनल ब्रोकरेज फर्म और डिजिटल ब्रोकरेज फर्म के साथ आप अपना डीमैट अकाउंट खोलकर US Stock Market में इन्वेस्टमेंट स्टार्ट कर सकते हैं ! 

यहाँ पर आपको इन्वेस्टमेंट एडवाईजर के साथ साथ पोर्टफोलियो बनाने की सुविधा भी मिल जाती है ! आप अपने पोर्टफोलियो के अनुसार अपने स्टॉक्स को रेगुलेट कर सकते हैं ! ट्रेडिंग अकाउंट खोलकर आप देश के साथ साथ विदेशी स्टॉक मार्केट की कंपनियों जैसे कि एप्‍पल (Apple), टेस्‍ला (Tesla), स्‍टारबक्‍स और मेटा (Meta) जैसी कंपनियों के शेयरों में निवेश में निवेश कर सकते हैं !

कितना और कैसे कर सकते हैं निवेश :

कोई भी भारतीय निवेशक विदेशी शेयर बाजार में स्‍वयं 2.5 लाख डॉलर प्रति वर्ष निवेश कर सकता है! जबकि म्‍यूंचुअल फंड (Mutual Fund) के माध्‍यम से निवेश की कोई सीमा नहीं है! घरेलू बाजार की तरह ही निवेशक विदेशी बाजार में भी निवेश कर सकता है ! विदेशी बाजारों में भी निवेश 2 तरीके से किया जा सकता है! निवेशक म्यूचुअल फंड के जरिए इनमें निवेश कर सकता है!

कोई व्‍यक्ति सीधे ही विदेशी शेयर बाजारों से खरीदारी कर सकता है! म्यूचुअल फंड में कई प्रकार के फंड हैं, जो विदेश में निवेश का प्रस्ताव देते हैं! भारत में कई अंतरराष्‍ट्रीय म्‍यूचुअल फंड हैं! इन म्‍यूचुअल फंडों की खास बात यह है कि इनमें भारतीय करेंसी में ही निवेश कर सकते हैं! और आपको फॉरेक्‍स एक्‍सचेंज के झंझट में भी नहीं पड़ना होता है और न ही! फॉरेक्‍स एक्‍सचेंज चार्जेज देने होते हैं! म्यूचुअल फंड के जरिए एक निवेशक कितना भी निवेश स्टॉक मार्केट के अंतर्गत कर सकता है!

Tax Rules For Investing In US Stock Market :

आम तौर पर लोग स्टॉक मार्केट में निवेश करना शुरू तो कर देते हैं मगर काफी कुछ ऐसी बातें हैं जो कि उन्हें पता नहीं होती हैं ! और ये बातें ही आपके लाभ को प्रत्यक्ष रूप से प्रभावित करती हैं ! जी हाँ अगर आप विदेशी स्टॉक मार्केट में निवेश करते हैं तो आपको स्टॉक मार्केट टैक्स और शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन की जानकारी का होना बहुत जरुरी है ! यानी की शेयर बेचते समय आपको होने वाले प्रॉफिट पर आपको कुल कितना फीसदी टैक्स कटाना पड़ेगा !

हमारे द्वारा शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन और लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन के बारे में पूरी जानकारी दी जा रही है! क्योंकी विदेशी शेयरों में निवेश से पहले टैक्स नियमों को जान लेना बहुत जरुरी है ! इसके साथ ही साथ सरचार्ज और कुछ अतिरिक्त फ़ीस भी आपको पे करनी पड़ती है !

टैक्स ऑन शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन :

यहां हम सिर्फ स्टॉक एक्सचेंज (Stock Exchange) में लिस्टेड शेयरों के बारे में बात कर रहे हैं! सबसे पहले आपको यह जान लेना जरूरी है कि शेयर बेचने पर किस दर से आपको टैक्स देना होगा! यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप खरीदने के कितने समय बाद शेयर बेच रहे हैं! अगर आप खरीदने के एक साल के अंदर शेयर बेचते हैं तो उससे हुए मुनाफे पर आपको शॉर्ट टर्म कैपिटल गेंस टैक्स (Short Term Capital Gains Tax) देना होगा! इसकी दर 15 फीसदी है!

शॉर्ट टर्म कैपिटल गेंस को आप एक उदाहरण की मदद से आसानी से समझ सकते हैं! मान लीजिए आपने 1 जनवरी को रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर खरीदे हैं! अगर आप इन्हें 30 दिसंबर से पहले पहले बेच देते हैं तो इससे हुए मुनाफे पर आपको 15 फीसदी टैक्स देना होगा! अगर आपको 1000 रुपये का मुनाफा शेयरों को बेचने पर हो रहा है तो आपको 150 रुपये शॉर्ट टर्म कैपिटल गेंस टैक्स चुकाना होगा!

टैक्स ऑन लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन :

अगर आप शेयरों को खरीदने के एक साल से ज्यादा समय के बाद बेचते हैं तो इससे हुए मुनाफे पर आपको लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस टैक्स (Long Term Capital Gains Tax) देना होगा! लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस टैक्स की दर 10 से 20 फीसदी है! इस टैक्स के साथ एक शर्त है और वह शर्त यह है कि अगर किसी वित्त वर्ष में आपको 1 लाख रुपये से ज्यादा का कैपिटल गेंस होता है! तभी आपको इस पर कैपिटल गेंस टैक्स चुकाना होगा!

ईटीएफ के लिए यह सीमा 36 महीने हैं! अगर 24 महीने से पहले ही बिकवाली कर दी जाती है तो शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन्‍स आपके इनकम टैक्‍स स्‍लैब के हिसाब से वसूला जाएगा! यही नहीं, अमेरिका में डिविडेंड्स पर 25 फीसदी की दर से टैक्‍स लगता है! इनवेस्‍टर को ब्रोकरेज काटकर ही बाकी 75 फीसदी रकम देता है! हालांकि भारत में टैक्स फाइल करते समय चुकाए गए डिविडेंड टैक्स का आप लोग क्रेडिट जरुर ले सकते हैं!

FAQs About Stock Market Investment :

प्रश्न 1. अमेरिका या अन्य किसी देश में इक्क्विती में निवेश के लिए कोई निर्धारित टैक्स हैं ?

उत्तर. नहीं इस सम्बन्ध में फ्रीक्वेंसी निर्धारित नहीं है !

प्रश्न 2. ईटीएफ के अंतर्गत टैक्स की समय सीमा कितनी है ?

उत्तर. 3 वर्ष अगर इससे पहले बिकवाली कर डी जाती है तो यह शोर्ट टर्म के अंतर्गत आएगा !

प्रश्न 3. क्या म्यूचुअल फण्ड विदेश में निवेश का प्रस्ताव देते हैं ?

उत्तर. हाँ म्यूचुअल फण्ड विदेश में निवेश का प्रस्ताव ऑफर करते हैं भारत में कई ऐसे विदेशी और अंतर्राष्ट्रीय! म्यूचुअल फण्ड प्रचालन में हैं जिनमें आप निवेश कर सकते हैं ! इसके माध्यम से आप कितना भी निवेश कर सकते हैं !

प्रश्न 4. भारतीय शेयर बाजार किसके द्वारा रेगुलेट किया जाता है ?

उत्तर. भारतीय शेयर बाजार SEBI के द्वारा रेगुलेट किया जाता है !

प्रश्न 5. SEBI की आधिकारिक वेबसाईट क्या है ?

उत्तर. सेबी की आधिकारिक वेबसाईट – https://www.sebi.gov.in/ है !