Sunday, May 22, 2022
HomeSarkari Yojanaदिल्ली में होगी सैटलाइट आधारित पार्किंग ,जानिए कैसे करेगी काम

दिल्ली में होगी सैटलाइट आधारित पार्किंग ,जानिए कैसे करेगी काम

नमस्कार दोस्तों ! दिल्ली में आपको जल्द ही पार्किंग सिस्टम में भी टेक्नोलॉजी देखने को मिलेगी।

दिल्ली में पहला सैटलाइट पर आधारित पार्किंग मैनेजमेंट सिस्टम कमला नगर में आने की योजना है।

सैटलाइट आधारित पार्किंग सिस्टम कोलकाता में पहले से ही काम कर रहा है। इस तरह के पार्किंग

सिस्टम में क्या टेक्नोलॉजी है और इसका कैसे इस्तेमाल किया जाएगा!

यह भी पढ़ें:ड्राइविंग लाइसेंस कैसे बनवाएं ऑनलाइन कैसे चेकअपना ड्राइविंग लाइसेंस स्टेटस कैसे चेक करे

कैसे करता है सैटलाइट आधारित सिस्टम

सबसे पहले, पार्किंग स्लॉट्स या पार्किंग एरिया Geo-Tagged होंगे। जिन्हें नहीं पता, उन्हें बता दें,

Geo-Tagging लोकल जानकारी को जियोग्राफिकल मेटाडाटा से डिजिटल मीडिया जैसे की- वेबसाइट्स,

वीडियोज और फोटो में बदलने की प्रक्रिया है। Geo-Tag में जगह के नाम से लेकर उसकी दूरी आदि

की सभी डिटेल्स मौजूद हो सकती हैं। दूसरे स्टेप में, इन पार्किंग स्पेस की सैटलाइट पर आधारित मॉनिटरिंग

की जाएगी और इस पर रियल-टाइम काम किया जाएगा। तीसरे स्टेप में, यूजर्स को App को डाउनलोड

कर के अपने व्हीकल्स के रजिस्ट्रेशन नंबर्स को लिंक करना होगा। चौथे स्टेप में, आपके व्हीकल की

पार्किंग होते ही पार्किंग मीटर आपकी ऐप पर ही चालू हो जाएगा। आखिरी स्टेप में, आप जब भी पार्किंग

स्लॉट खली करेंगे, आपकी ऐप से ही डिजिटल पेमेंट हो जाएगी।

यह भी पढ़ें:Reliance Jio IUC क्या है अब पूरी पूरी तरह मुफ्त नहीं आउटगोइंग! इन Recharge Plans का उठाएं फायदा

मिनिस्ट्री ऑफ होम अफेयर्स के नॉलेज पार्टनर अनुज मल्होत्रा ने बताया की

पार्किंग फी पेमेंट के लिए मोबाइल फोन्स का प्रयोग किया जाएगा। ऐसा एक मॉडल कोलकाता में पहले से

क्रियान्वित है। नियम तोड़ने वालों के लिए सिक्योरिटी कैमरा और सैटलाइट मॉनिटरिंग होगी और उन्हें

पार्किंग टिकट अपने आप इशू हो जाएगी। नए पार्किंग सिस्टम में सब कुछ मास्टर कंट्रोल सेंटर से कंट्रोल

किया जाएगा। सिविक बॉडी व्हीकल्स की पार्किंग लोकेशंस को टैग करेगी और सैटलाइट एरिया में मौजदू

पार्किंग स्पेस को मॉनिटर करेगी। सिविक बॉडी इसके लिए एक ऐप बनाएगी, जिसे लोगों को इस पार्किंग

फैसिलिटी को इस्तेमाल करने के लिए डाउनलोड करना होगा। यूजर्स को अपनी ऐप में कुछ अमाउंट भी रखना होगा।

यूजर्स के फोन्स उन्हें व्हीकल्स की नंबर प्लेट के साथ रजिस्टर होंगे। सैटलाइट के पार्किंग लोकेशन पर

व्हीकल को डिटेक्ट करने के बाद पार्किंग मीटर शुरू हो जाएगा।

ताज़ा न्यूज़ अपडेट के लिए बने रहे sarkaridna.com  के साथ और अधिक जानकरी के लिए आप

हमारे फेसबुक   को फ़ॉलो करे और साथ ही हमारे पेज को शयेर करने के लिए क्लिक करे 

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular