latest newsPM आवास योजना की सब्सिडी को लेकर बैंकों को...

PM आवास योजना की सब्सिडी को लेकर बैंकों को घेर रही जनता

-

नमस्कार दोस्तों ! जैसा की मै बात करने वाला हूँ प्रधानमंत्री आवास योजना को लेकर जागरूकता की

कमी और फाइनैंशल सिस्टम को लेकर लोगों के बदल रहे सेंटिमेंट्स के चलते कई नई तरह की परेशानियों

का सामना करना पड़ रहा है। सब्सिडी नहीं मिलने और छिन जाने की घटनाओं से लोगों में फैला रोष,

जागरूकता की कमी बनी स्कीम का अहम रोड़ा।

यह भी पढ़े :इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए शहरों में हर तीन किलोमीटर पर होगा चार्जिंग स्टेशन

14,000 करोड़ की सब्सिडी हो चुकी है जारी

जब इस मामले की जाँच की गई तो उसमे पाया गया कि इस योजना के तहत मिलने वाली सब्सिडी का

नाम ही क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी स्कीम है, जिसमें पैसा स्कीम के तहत सभी नियमों को पूरा करने वाले

लाभार्थी को सीधे दिया जाता है। यहां बता दें कि अब तक इस योजना के तहत 14,000 करोड़ से ज्यादा

की सब्सिडी दी जा चुकी हैं।

यह भी पढ़े :मोबाइल नंबर पोर्ट कराने के लिए अब देने होंगे बस इतने रूपये 11 नवम्बर से नियम लागू

फर्जी फॉर्म मिल रहे है 

ठाणे में एक रिक्शाचालक ने जब यह कहा कि उसने भी किसी एजेंट से 200 रुपये में PM आवास योजना

का फॉर्म लिया है, तो ऐसे में समझा जा सकता है कि इस योजना को लेकर लाभार्थियों में अभी भी जानकारी

का लेकर कितना अभाव है, क्योंकि ऐसा कोई फॉर्म बिकता ही नहीं है। इस योजना के तहत सब्सिडी देने

वाली नोडल एजेंसी नैशनल हाउसिंग बैंक (NHB) के अधिकारी का कहना है कि लोगों को पहले

यह समझना होगा कि यह कोई लोन नहीं है, बल्कि एक ऐसी सब्सिडी है, जिसका बैंक या हाउसिंग फाइनैंस

यह भी पढ़े :Aadhar card में पता बदलना हुआ बहुत आसान जानिए कैसे

कंपनी ड्यू डिलिजेंस के आधार पर ऑनलाइन फॉर्म आवेदन करती हैं। अगर आवेदक शर्तों और नियमों को

पूरा नहीं करता है तो उसे उसका लाभ नहीं मिल पाता। दूसरी बार कोशिश करने वालों का आवेदन तुरंत

पकड़ में आ सकता है। सब्सिडी वापस लेने के मामले में पीएनबी के बैंक अधिकारी कहते हैं,’असल में

स्टैचुअरी टाउन की लिस्ट के आधार पर कई बार दिक्कतें आ जाती हैं। कुछ इलाके उसमें शामिल नहीं होते हैं।

यह भी पढ़े :बुढापे के लिए फायदेमंद है ये योजनाये 10 हजार मिलेगी पेंशन

वादाखिलाफी

कुछ लोगों का कहना है कि सब्सिडी देने के वादे के नाम पर कई कंपनियां लोन दे रही हैं। जवाब में

एचडीएफसी लि. के प्रवक्ता कहते हैं, ‘हम इस योजना के तहत एक लाख दस हजार होम बायर्स को

2,462 करोड़ रुपये की सब्सिडी डिस्बर्स कर चुके हैं, लेकिन किसी को भी यह नहीं कह सकते कि

हम सब्सिडी देने का वादा करते हैं, क्योंकि वह हमारे दायरे का हिस्सा ही नहीं है। हमारा काम सिर्फ

इसके लिए आवेदन नोडल एजेंसी को भेजने का है। निर्णय का अधिकार नियामक के पास है

और पैसे लाभार्थी को देना भी, हम तो प्रधानमंत्री आवास योजना योजना को लोगों तक पहुंचाने का सिर्फ जरिया हैं।

यह भी पढ़े :BSNL ने लांच किया सबसे सस्ता प्लान

 हकीकत क्या है 

सब्सिडी सरकार सीधे लाभार्भी के खाते में जमा करती है, न कि बैंक या कंपनी को देती है।

सरकार की नोडल एजेंसी NHB और HUDCO तय करती है सब्सिडी की नियम और शर्तें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest news

अब ऑनलाइन ऐसे करें अपने कोविड-19 वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट संशोधन

0
अगर आपने कोरोना वैक्सीन लगवाने के लिए रजिस्ट्रेशन के दौरान अपना नाम, जन्मतिथि या कोई जानकारी गलत लिख दी है,और आप सोच रहे हैं...

कन्या सुमंगला योजना के तहत लड़की को मिलते हैं 15 हजार...

0
Kanya Sumangala Yojana – यूपी कन्या सुमंगला योजना 2020 यूपी कन्या सुमंगला योजना | Apply Online, Application Form |Kanya Sumangala Yojana | UP Kanya Sumangala...

Must read

आयुष्मान भारत 2021 में नाम कैसे जोड़ें जाने पूरी प्रक्रिया :

देश के 10 करोड़ 74 लाख परिवारों को मुफ्त...

मोबाइल से कैसे देखे Ayushman Bharat Yojana List 2019 में अपना नाम

Ayushman Bharat Yojana List 2019 में एसे देखे अपना...

You might also likeRELATED
Recommended to you

DMCA.com Protection Status