नमस्कार दोस्तों सरकारी डीएनए में एक बार फिर से आप सभी का बहुत-बहुत स्वागत है दोस्तों अगर आप अपने
मूल निवास से दूर रहकर या आप कही किसी और शहर में जॉब करते है या फिर किसी अन्य वजह से बाहर रह
रहे है और ऐसे में अगर आपको किसी बैंक में खाता खुलवाना हो तो ऐसी स्थिति में आपको बड़ी परेशानी का
सामना करना पड़ता है क्युकी ऐसे स्थिति में हमारे आधार कार्ड और हमारे पास मौजूद अन्य डॉक्यूमेंट में पता
हमारे मूल का ही होता है तो ऐसे में बैंक वर्तमान पते का दस्तावेज़ देने को बोलती है लेकिन अब केंद्र सरकार
नया नियम जारी कर दिया है जिसके तहत अब आपको केवाईसी और बैंक खाते खुलवाने के लिए अब उन्हें
केवल स्वघोषित पता बताना होगा।

इस फैसले से प्रवासी लोगों को फायदा होगा जिनके पास आधार पर उनके मूल निवास का पता रहता है लेकिन
अपने उस वर्तमान पता पर बैंक खाता खोलना चाहते हैं, जहां वे काम के सिलसिले में रह रहे होते हैं।

उदाहरण के लिए आप मुंबई में एक बैंक खाता खोल सकते हैं, भले ही आपका स्थायी पता भारत के
किसी अन्य शहर में हो और आपके पास अपने मुंबई के निवास का पता न हो।

इसे भी पढ़े :-डाकघरों से भी निकाल सकेंगे बैंक खाता का पैसा

संचार प्रयोजनों (विवरण, चेकबुक आदि) के लिए आपको बस अपने स्थायी पते (आधार कार्ड) का आधिकारिक
रूप से एक साथ अपने मुंबई के पते के बारे में एक घोषणा के साथ प्रस्तुत करने की आवश्यकता है।

एक किराए का समझौता या एक स्व-घोषणा के साथ एक उपयोगिता बिल सहायक होगा।

आप केवल आधार कार्ड के साथ बैंक खाता खोल सकते हैं। आधार कार्ड अब पहचान और पते
दोनों के प्रमाण के रूप में स्वीकार किया जाता है।

बैंक खाता खोलने के लिए भी परिचय आवश्यक नहीं है।

साथ ही आप बैंक द्वारा जारी नए बयानों या पासबुक की मदद से आधार कार्ड पर पता बदल सकते हैं,
जो आपके अन्य कार्यों के लिए पते के प्रमाण के रूप में उपयोग करने के लिए सहायक होगा।

और फिर से राशन कार्ड की मदद से अपने मूल पते पर वापस जाएं।

ताज़ा न्यूज़ अपडेट के लिए बने रहे sarkaridna.com के साथ और अधिक जानकरी के लिए आप हमारे

Youtube Channel को Watch करे

 हमारे Youtube पर जाने के लिए  नीचे दिए गये आइकॉन पर क्लिक करे 

sarkaridna Youtube

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here