सरकार ने पैन कार्ड जुड़े कई नियमो में बदलाव कर दिए है, 6 नवंबर को वित्त मंत्रालय द्वारा नोटिफिकेशन जारी करने के बाद सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेज (CBDT) ने इनकम टैक्स एक्ट 1962 में संसोधान करते हुए नया नियम बना दिया है.
और नए नियम के मुतावित आप को कुछ जगहों पर पैन कार्ड लगाना अनिवार्य है अगर आप नए नियमो का उन्लान्घन करते है या गलत पैन कार्ड नंबर देते है तो आप को 10 हजार का जुरमाना देना होगा और सरकार ने कुछ ऐसे नियम भी बनाये गए है जिसमे नागरिको को फायदा भी हो सकता है

केंद्र सरकार ने इनकम टैक्स Forms के कई सेट में बदलाव किया है. साथ में सरकार ने यह भी सुनिश्चित किया है कि नियमों में इस बदलाव के बाद किसी भी व्यक्ति पर कोई बुरा असर न पड़े.

आपको बता दें नए नियम अब आप इनकम टैक्स के लिए आप पैन नंबर की जगह आधार नंबर का इस्तेमाल कर सकते हैं. इससे लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ऐलान किया कि पैन कार्ड की जगह आधार कार्ड का प्रयोग भी मान्य होगा.

इनकम टैक्स रिटर्न के अलावा पैन कार्ड की जरूरत अधिक पैसो के लेनदेन के समय भी होती है बड़े लेनदेन में भी पैन की जगह आधार का इस्तेमाल कर सकते है

यदि आप की कमाई टैक्स छूट के दायरे में नहीं आती है तो आप को इनकम टैक्स भरना अनिवार्य है.अब नए नियम के लागू होने के बाद अब पैन कार्ड की जगह आधार कार्ड का भी इस्तेमाल सकता है.

इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने से लेकर बड़े पैसे के लेनदेन के लिए पैन नंबर की जरूरत होती है. लेकिन, कई बार होता है कि कोई फॉर्म भरते वक्त पैन नंबर गलत हो जाता है.

ऐसे में आपके लिए जरूरी है कि आप ये नंबर सावधानी से भरें. नए नियमों के मुताबिक, अगर आपने किसी फॉर्म में गलत पैन नंबर दे दिया है तो इसके लिए आपको 10,000 रुपये तक का जुर्माना भरना पड़ सकता है.

आयकर विभाग का यह नियम तब लागू होता है जब कोई आयकर रिटर्न दाखिल करने वक्त या फिर बड़े वित्तीय लेनदेन के लिए गलत पैन नंबर दे देता है. वर्तमान में, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के पास कम से कम 20 ऐसे मामलों की लिस्ट है

जहां पैन नंबर देना अनिवार्य है. इसमें बैंक अकाउंट खोलने, वाहन खरीदने, म्यूचुअल फंड खरीदने, शेयर, बॉन्ड, डिबेंचर आदि शामिल है. आपको यह भी बता दें कि एक बार पैन कार्ड जारी होने के बाद आप इसके लिए दोबारा आवेदन नहीं कर सकते हैं. पैन कार्ड एक ही बार बनता है जोकि जीवनभर के वैध होता है.

नए नियमो के तहत पैन की जगह आधार नंबर से भी काम बन सकता है  कई जगहों पर फॉर्म में पैन नंबर भरने के बाद भी पैन कार्ड की फोटोकॉपी मांगी जाती है. क्योंकि, अगर आपने अनजाने में गलत पैन नंबर भर दिया है तो फोटोकॉपी के साथ इसे सत्यापित किया जा सकता है.

बता दें कि अगर आप पैन कार्ड भूल भी गए हैं तो इसकी जगह आप आधार नंबर भी दे सकते हैं. हाल ही में सरकार ने कहा है कि पैन नंबर की जगह आधार नंबर भी दिया जा सकता है. लेकिन, यहां भी आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि अगर आपने गलत आधार नंबर दे दिया तो इसके लिए भी 10,000 रुपये का जुर्माना लगाया जा सकता है.

इसके अलावा, बड़े लेनदेन में अगर पैन या आधार नंबर का जिक्र नहीं है तो भी इसके लिए जुर्माना लगाया जा सकता है.
पैन होना पर भी लगेगा जुर्माना टैक्स डिपार्टमेंट के नियमों के मुताबिक, किसी भी व्यक्ति को एक से अधिक पैन रखने की अनुमति नहीं है. इनकम टैक्स एक्ट 1961 के सेक्शन 272B के तहत अगर किसी के पास एक से अधिक पैन है तो इसके लिए भी 10,000 रुपये का जुर्माना लगाया जा सकता है.

ऐसे में जरूरी है कि अगर आपके पास 2 पैन कार्ड है तो इसमें से एक टैक्स डिपार्टमेंट को सरेंडर कर दिया जाए. अगर पैन कार्ड और आधार कार्ड लिंक नहीं है तो 31 दिसंबर 2019 के बाद इसे अवैध घोषित किया जा सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here