नमस्कार दोस्तों ! मोदी सरकार आयुष्मान भारत योजना (Ayushman Bharat Yojna) शुरू कर

चुकी है. आयुष्मान भारत योजना(Ayushman Bharat Yojna) को प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना

(PMJAY) भी कहा जाता है. मोदी केयर के नाम से मशहूरयह योजना वास्तव में देश के गरीब लोगों

के लिए हेल्थ इंश्योरेंस स्कीम है. PMJAY के तहत देश के10 करोड़ परिवारों को सालाना 5 लाख

रुपये का स्वास्थ्य बीमा मिल रहा है.

यह भी पढ़ें  :Delhi Traffic Police वापस लेगी 1.5 लाख chalaan,जानिए पूरा मामला

आयुष्मान भारत योजना (Ayushman Bharat Yojna) का लक्ष्य क्या है

सरकार ABY के माध्यम से गरीब, उपेक्षित परिवार और शहरी गरीब लोगों के परिवारों को स्वास्थ्य

बीमा उपलब्ध कराना चाहती है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘प्रधानमंत्री जन आरोग्य’ योजना (आयुष्मान भारत योजना यानी ABY) की

घोषणा की है. इसे पंडित दीन दयाल उपाध्याय की जयंती पर 25 सितंबर से देशभर में लागू कर दिया गया है

सामाजिक-आर्थिक जाति जनगणना (SECC) 2011 के हिसाब से ग्रामीण इलाके के 8.03 करोड़

परिवार और शहरी इलाके के 2.33 करोड़ परिवार आयुष्मान भारत योजना (ABY) के दायरे में

आयेंगे. इस तरह PM-JAY के दायरे में 50 करोड़ लोग आएंगे.

यह भी पढ़ें  :NAD registration क्या है कैसे होगा nad registration last date क्या है

Ayushman Bharat Yojna में किसे मिल रहा है कवरेज

सरकारी अस्पताल और पैनल में शामिल अस्पताल में आयुष्मान भारत योजना (ABY) के लाभार्थियों

का कैशलेस/पेपरलेस इलाज हो सकेगा.

मोदी सरकार की कोशिश यह है कि महिला, बच्चे और सीनियर सिटीजन को Ayushman Bharat Yojna में खास तौर पर

शामिल किया जाय. आयुष्मान भारत योजना (Ayushman Bharat Yojna) में शामिल होने के लिए परिवार के आकार और

उम्र का कोई बंधन नहीं है.

यह भी पढ़ें  :कन्या सुमंगला योजना क्या है और कैसे करे ऑनलाइन जाने क्या है जरुरी दस्तावेज

ABY की योग्यता का निर्धारण किस प्रकार होता है

शहरी इलाके में 11 पूर्व निर्धारित पेशे/कामकाज के हिसाब से लोग आयुष्मान भारत योजना

(Ayushman Bharat Yojna)में शामिल हो सकते हैं. राज्यों में राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना में पहले

से शामिल लोग खुद हीआयुष्मान भारत योजना (ABY) में शामिल हो गए हैं.

SECC के आंकड़ों के हिसाब से आयुष्मान भारत योजना (ABY) में लोगों को मेडिकल इंश्योरेंस

मिल रहा है. SECC के आंकड़ों के हिसाब से ग्रामीण इलाके की आबादी में D1, D2, D3, D4,

D5 और D7 कैटेगरी के लोग आयुष्मान भारत योजना (ABY) में शामिल किये गए हैं.

यह भी पढ़ें  :Reliance Jio IUC क्या है अब पूरी पूरी तरह मुफ्त नहीं आउटगोइंग! इन Recharge Plans का उठाएं फायदा

ABY में शामिल क्या है शामिल 

आयुष्मान भारत योजना (ABY) में इलाज का खर्च केंद्र सरकार की स्वास्थ्य योजना (CGHS) से

15-20 फीसदी कम है.

आयुष्मान भारत योजना (ABY) में तकरीबन हर बीमारी के लिए चिकित्सा और अस्पताल में दाखिल

होने का खर्च कवर है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने आयुष्मान भारत योजना (ABY) में 1354 पैकेज शामिल

किये हैं. इसमें कोरोनरी बायपास, घुटना बदलना और स्टंट डालने जैसे इलाज शामिल हैं.

यह भी पढ़ें  :Jio ग्राहकों के लिए बड़ी खुशखबरी, दूसरे network पर कॉल करने के लिए मिलेगा 30 मिनट का free talktime

कौन-कौन अस्पताल में होगा ABY के लाभार्थी का इलाज?

सभी सरकारी अस्पताल में आयुष्मान भारत योजना (ABY) के लाभार्थी इलाज करा सकते हैं.

इसके साथ ही सरकार के पैनल में शमिल निजी अस्पताल में भी ABY के लाभार्थी इलाज करा

सकते हैं. पैनल में शामिल होने के लिए निजी अस्पताल में कम से कम 10 बेड और इसे बढ़ाने

की क्षमता होनी चाहिए. लाभार्थी सरकार द्वारा ABY के लिए जारी हेल्पलाइन नंबर पर भी कॉल कर सकते हैं

ताज़ा न्यूज़ अपडेट के लिए बने रहे sarkaridna.com  के साथ और अधिक जानकरी के लिए आप

हमारे फेसबुक   को फ़ॉलो करे और साथ ही हमारे पेज को शयेर करने के लिए क्लिक करे 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here