Pollution Certificate को लेकर सरकार ने लिया बड़ा फैसला जानलें नही होगा बड़ा नुकसान

0
100

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने वाहनों से होने वाले धुंए और प्रदुषण प्रमाण पत्र को लेकर बहुत बड़ा बदलाव किया है! अब पुरे भारत देश में एक तरह के नियम लागु किये जाएँगे! मंत्रालय ने Pollution Certificate के प्रयोग पर एक notification भी जारी किया! इस Notification में बताया गया है की एक वाहन के लिए देश भर के अलग अलग में नया पॉल्यूशन सर्टिफिकेट लेने जरूरत नही होगी! 

अगर Pollution Certificate नही तो क्या होगा

अगर आपकी आपकी गाड़ी या कार प्रदुषण जांच के तय किये गए मनको पर फेल करार दी जाती है! तो आपकी गाड़ी या कार का रजिस्ट्रेशन रद्द किया जा सकता है! आपके परमिट को भी सस्पेंड कर दिया जाएगा! यह तब तक सस्पेंड रहेगा,जब तक आप सर्विस सेंटर जाकर प्रदूषण जाँच के तय किये गए मानकों के तहत अपने वाहन को सही नही करा लेते! सरकार ने यह नियम गजट लागु होने के 3 महीने बाद चालू किया है!

New Update of Ministry of Road Transport and Highways

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने बताया की Pollution Certificate को राष्ट्रीय रजिस्टर के साथ पीयूसी डेटाबेस से जोड़ा जा रहा है! अबसे पीयूसी सर्टिफिकेट पर एक QR code दिया होगा ! इस QR code के अंतर्गत गाड़ी की डिटेल और मालिक का और गाड़ी की उत्सर्जन की स्थिति की जानकारी दी गयी है! अब नये Pollution Certificate पर मालिक का मोबाइल नंबर, नाम और पता, इंजिन नंबर तथा चेंसिस नंबर दिया रहेगा ! डेटाबेस से किसी विशेष गाड़ी या वाहन के बारे में जानकारी प्राप्त करने में सहायता मिलेगी! 

क्या होता है पॉल्यूशन 

प्रदुषण जाँच केंद्र पर पॉल्यूशन की जाँच की जाती है! Pollution की जांच मुख्यतया एक विशेष तरह की डिवाइस से की जाती है! प्रदूषण न केवल भारत में बल्कि पूरे विश्व में एक बड़ा पर्यावरणीय मुद्दा है और आजकल वायु प्रदूषण प्रमुख पर्यावरणीय मुद्दों में से एक है! वायु प्रदूषण में लगातार वृद्धि के पीछे कई कारण हैं! अधिकांश वायु प्रदूषण ऑटोमोबाइल, परिवहन के साधन, औद्योगीकरण, बढ़ते शहरों आदि के कारण हो रहा है! ऐसे स्रोतों से कई हानिकारक गैसों या खतरनाक तत्वों का रिसाव पूरे वातावरण को प्रदूषित कर रहा है! वायु प्रदूषण के कारण ओजोन परत भी बहुत अधिक प्रभावित हो रही है जिससे पर्यावरण में गंभीर व्यवधान उत्पन्न हो रहा है! 

How To Check Pollution by Pollution Certificate 

Pollution की जाँच के लिए एक टेस्ट किया जाता है, टेस्ट के लिए गैस ऐनालायजर ऐसे कंप्यूटर से लगाया जाता है जिसमें प्रिंटर और कैमरा भी जुड़ा हुवा हो! यह गैस ऐनालायज़र गाड़ी से निकलने वाले प्रदुषण के आंकड़ों को चेक करता है और इसको कंप्यूटर को भेजता है जो स्क्रीन पर हमे दिख जाता है! और कैमरा गाड़ी के लाइसेंस प्लेट का फोटो ले लेता है अगर गाड़ी से निश्चित मात्रा में प्रदुषण निकल रहा हो! तो ऐसे में आपको Pollution Certificate बनाकर दे दिया जाता है! नही तो आपको Pollution Certificate नही दिया जाता है!

Get your Nearest Pollution Certificate

जब भी आप Pollution Certificate बनवाने के बारे में सोंचते हैं तो सबसे पहले आपको इसके सेंटर की बारें में जानकारी होनी बहुत जरूरी है! मई आपको बतादूँ इन सेंटर्स के बारे में किसी से कुछ भी पूंछने की जरूरत नही है! Pollution Certificate Centres की जानकारी के लिए कहीं भी जाने की जरूरत नही है! सेंटर को जानने के लिए आपको इस दिये हुए लिंक पर click here for search center टैब करें! वेबसाइट पर जाकर आपको state चुनकर देख सकते हैं!

 

How To Download Puc Certificate 

अगर आपका Pollution Certificate बना हुवा है! और वह किसी कारणवश वह फट गया है या फिर खो गया है! तो उसको आप ऑनलाइन फिर से download कर सकते हैं! इसके लिए आपको भारत सरकार की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा! इसको आपको कैसे डाउनलोड करना है ये मै आपको आगे बता रही हूँ! इसके लिए आप इस लिंक (click here) पर क्लिक करना है! इस लिंक पर जाकर आपको अपना गाड़ी नंबर तथा चेंसिस नंबर और कैप्चा डालकर आपको search करना है! जैसे ही आप search करेंगे वैसे ही आपको Download pollution Certificate online का ऑप्शन मिल जाएगा! और इस तरह आप अपना pollution certificate download कर सकते हैं!

इन्हें भी पढ़ें- अगर आपने बनवा रखा है डिजिटल हस्ताक्षर तो फ़ौरन करें ये काम

क्या पॉल्यूशन सर्टिफिकेट न होने पर जुर्माना पड़ेगा

हां दोस्तों ऐसा होगा! अगर आपके गाड़ी का प्रदुषण सरकार द्वारा तय किये मानक पर खरा नही उतरेगा ! तो मालिक को एक पर्ची थमा दी जाएगी अगर प्रदुषण जांच केंद्र पर डिवाइस सही काम नही कर रही है तो आप कहीं दूसरे सेंटर पर जाकर अपने गाड़ी के प्रदुषण की जांच करा सकते हैं! यह पर्ची आप सेंटर पर जांच के समय दिखा सकते हैं! इसके साथ ही वाहन का प्रदुषण मानदंडों के अनुसार ना मिलने पर आपको जुर्माना भरना पद सकता है! लेकिन जुर्माना भरने से पहले गाड़ी मालिक को सेंटर पर जाकर प्रदुषण की जांच करानी होगी! 

यह भी देखें-अपने डीमैट अकाउंट से Share ऐसे करें ट्रांसफर,बेस्ट तरीके