सरकार इलेक्ट्रानिक्स टोल कलेक्सन तकनीक को जोर दे रही है जिसके चलते आने वाले 15 जनवरी से सभी
टोल प्लाजा पर fastag अनिवार्य कर दिया जायेगा जिसके चलते सभी लोगो ने fastag लगवा
लिया है या ऑनलाइन मंगवा रहे है लेकिन fastag हम और आप के लिए बिलकुल नया एक्सपीरियंस है
जिसके चलते कुछ ठग कंपनी ने fastag को लेकर लोगो में अवेरनेस की कमी की वजह से fastag
को भी ठगी का जरिया बना लिया है जिसके चलते काफी लोगो से पैसे ठगे जा रहे है तो यदि आप एक वहां के
मालिक है तो आज का विडियो काफी हेल्पफुल होने वाला है पहले ही मई अआप को बता दू कमी fastag
में नहीं है बस आप को थोडा सा अहतियात बरतनी है

तो चलिए जानते है पूरा माजरा

danik jagran की खबर के अनुसार Fastag रीचार्ज करवाने के बाद Message में आया लिंक,
क्लिक करते ही बैंक खाते 93 हजार रुपये निकल गए यह अकेला मामला नहीं है ऐसे कई मामले है हर बार
तरीके अलग होते है

प्लास्टिक उत्पाद बनाने वाली मुंबई की कंपनी के एजीएम लुधियाना के दरेसी निवासी विशाल शर्मा कार पर फास्टैग
लगवाकर अभी घर भी नहीं पहुंचे थे कि रास्ते में उन्हें एक फोन आया। काल करने वाले ब्यक्ति ने विशाल से कहा
कि उनकी ओर से दिया गया मोबाइल नंबर फास्टैग से अटैच नहीं है। अगर नंबर अटैच करवाना है तो एसएमएस से
भेजे गए लिंक पर क्लिक कर अपना मोबाइल नंबर लिख दें।ऐसा काल आप के पास आता तो सायद अआप भी यही
करते जैसा विशाल शर्मा ने किया विशाल ने लिंक पर क्लिक कर दिया

विशाल ने लिंक पर क्लिक कर अपना मोबाइल नंबर भेजा तो उनके खाते से कई ट्रांजेक्शन कर नौसरबाज 93 हजार
रुपये उड़ा ले गया। पीड़ित ने 93 हजार के मैसेज देखने के बाद तुरंत उस नंबर पर फोन मिलाया तो आगे से नंबर बंद मिला। पीड़ित ने इसकी शिकायत पुलिस कमिश्नर (सीपी) से की है। सीपी ऑफिस ने मामला जांच साइबर सेल को भेज दिया है।

Fastag

पेटीएम या नंबर को फास्टैग से अटैच करवाने पर रोजाना दर्जनों लोगों से ठगी हो रही है। जब विशाल शर्मा इसकी
शिकायत लेकर कोतवाली थाने में गए तो वहां पर पुलिस अधिकारी ने शिकायत लेने से मना कर दिया। पुलिस अधिकारी
का कहना था कि ऑनलाइन ठगी की शिकायत पुलिस कमिश्नर के पास ही करनी होगी और वहीं से इसकी जांच होगी।
इसके बाद पीड़ित ने सीपी ऑफिस में जाकर शिकायत दी।

ऐसा पहला केस नहीं लाखो लोगो को ऐसे रोज शिकार बनाया जाता है मै आपको एक मेसेज दिखाऊ जो
मेरे फ़ोन पे भी आज एक ऐसा ही sms आया जिसपे paytm kyc करने की बात की गई यह सभी
ठगी के तरीके है कभी भी ऐसे sms में दिए गए लिंक या फोने पर कोई भी इनफोर्मेसन न साझा करे
अगर आप को संधिग्द लगे तो कंपनी की हेल्पलाइन जो उसकी वेबसाइट से नंबर देखे उसी पर बात करे
अगर हो मोबाइल पर आने वाले एसएमएस के लिंक पर क्लिक न करें

और किसी के कहने पर कभी प्ले स्टोर से कोई एप डाउनलोड न करें। एप की सहायता से साइबर ठग
मोबाइल को रिमोट पर ले लेते हैं और उस पर आने वाले सभी मैसेज उसके पास खुद ब खुद चले जाते हैं।
जिस अकाउंट से आपका नंबर अटैच होता है उससे पैसों की ट्रांजेक्शन कर ली जाती है।

कैसे बचे ठगी होने से 

मैंने यहाँ पे कुछ आप को सावधानी बता देता हूँ जिससे आप अपने साथ ठगी होने से बच सकते है

मैसेज में आए किसी भी तरह के लिंक पर न करें क्लिक।

किसी का फोन आए तो उसे डेबिट-क्रेडिट कार्ड नंबर न दें। खाते की जानकारी भी न दें।

किसी को कार्ड के पीछे लिखा सीवीवी नंबर भी न बताएं।

कोई फोन कर आपका पिन या पासवर्ड पूछे तो न बताएं।

खाते से जुड़ा मोबाइल नंबर भी गुप्त रखें नौसरबाज क्लोन सिम बनाकर भी ठगी कर लेते हैं।

ताज़ा न्यूज़ अपडेट के लिए बने sarkaridna.com के साथ और अधिक जानकरी के आप हमारे
youtube videos देख सकते है video देखने के लिए नीचे दिए गये आइकॉन पर क्लिक करे 

sarkaridna Youtube
https://www.youtube.com/results?search_query=sarkaridna

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here