latest news खोज डाला लैंडर विक्रम पाकिस्तान फिर से बोला Chandrayaan...

खोज डाला लैंडर विक्रम पाकिस्तान फिर से बोला Chandrayaan 2 Lander Vikram chandrayan 2 update

-

खोज डाला लैंडर विक्रम पाकिस्तान फिर से बोला Chandrayaan 2 Lander Vikram chandrayan 2

किसी ब्रह्माण्डीय पिण्ड, जैसे पृथ्वी, से दूर जो शून्य (void) होता है उसे अंतरिक्ष (Outer space) कहते हैं

चंद्रयान-२ या द्वितीय चन्द्रयान, चंद्रयान-1 के बाद भारत का दूसरा चन्द्र अन्वेषण अभियान है

जिसे भारतीय अंतरिक्ष अनुसन्धान संगठन (इसरो) ने विकसित किया है।इस अभियान में भारत में निर्मित एक चंद्र

कक्षयान, एक रोवर एवं एक लैंडर शामिल हैं

चाँद की सतह पर हमारा लैंडर विक्रम पहुचे ये हम सब कहते थे और इसके लिए हम प्रार्थना भी कर रहे थे

वहीं दूसरी ओर इसरो के इस कार्य की सराहना पूरे भारत से ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में भी तारीफ हो रही है।

भारत के इस अभियान की तारीफ अमेरिकी स्‍पेस एजेंसी नासा ने भी की,

Chandrayaan 2 Lander Vikram chandrayan 2

वाही ऑर्बिटर अपनी कच्छा में अपना काम कर रहा है जो की हमारा 95/ परसेंट सरे कार्य करेगा

विक्रम जो की लैंडिंग २ .1 km पहले कनेक्सन टूट गया था जो की इस्र्रो ने ओबिटर में लगे high रेगुलेशन कैमरा से

खोज लिया है विक्रम और रोवर अपने लैंडिंग स्थान से 500 मीटर दूर पड़ा है इसकी जानकारी इसरो के प्रमुख ने दी यह और विक्रम से कनेक्सन बनाए की कोसिस हम लगातार कर रहे है

वाही इसरो के चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम के लैंडिंग से पहले संपर्क टूटने पर पाकिस्‍तान के नेता और

सेना के प्रवक्‍ता ने खूब तंज कसे इस पर पाकिस्तान साइंस और टेक्नोलॉजी मिनिस्टर को पाकिस्तान को

ट्विटर पर पोस्ट किया फिर उन्हें इस पर खूब गालिया पड़ी

वही दूसरी तरफ पाकिस्‍तान की अंतरिक्ष यात्री नमीरा सलीम ने भी भारत के इस अभियान की तारीफ की
और बधाई भी दी है

जिससे वहा के नेताओ को और भी मिर्ची लग गयी इससे पता चलता है कि पाकिस्‍तान में नासमझ जुगाडू नेताओं
के आलावा कुछ और लोग भी है , जो इस ऐतिहासिक उपलब्धि का महत्‍व समझते हैं।

अंतरिक्ष यात्री नमीरा सलीम ने कहा कि मैं चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम की चांद के दक्षिण ध्रुव में सॉफ्ट लैंडिंग की
ऐतिहासिक कोशिश के लिए इसरो और भारत को बधाई देती हूं।

नमीरा सलीम ने कहा है कि दक्षिण एशिया के लिए चंद्रयान-2 मिशन अंतरिक्ष के क्षेत्र में लंबी छलांग है।

यह सिर्फ दक्षिण एशिया के लिए ही नहीं, बल्कि पूरी वैश्विक अंतरिक्ष इंडस्ट्री के लिए गर्व का विषय है।नमीरा सलीम पाकिस्तान की पहली अंतरिक्ष यात्री हैं,

इसरो चंद्रयान 2 की विशेषताएँ

1. चंद्रमा के दक्षिण ध्रुवीय क्षेत्र पर एक सॉफ्ट  लैंडिंग का संचालन करने वाला पहला अंतरिक्ष मिशन हैं।

2. पहला भारतीय मिशन, जो घरेलू तकनीक के साथ चंद्र सतह पर एक soft लैंडिंग का प्रयास करेगा।

3. पहला भारतीय मिशन, जो घरेलू तकनीक के साथ चंद्र क्षेत्र का पता लगाने का प्रयास करेगा।

4. 4th देश जो चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग करेगा।

ऑर्बिटर

ऑर्बिटर 100 किलोमीटर की ऊंचाई पर चन्द्रमा की परिक्रमा करेगा.[31] इस अभियान में ऑर्बिटर को पांच
पेलोड के साथ भेजे जाने का निर्णय लिया गया है। तीन पेलोड नए हैं, जबकि दो अन्य चंद्रयान-1 ऑर्बिटर पर
भेजे जाने वाले पेलोड के उन्नत संस्करण हैं। उड़ान के समय इसका वजन लगभग 1400 किलो होगा

लैंडर

चंद्रयान 2 के लैंडर का नाम भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के जनक डॉ विक्रम ए साराभाई के नाम पर रखा गया है।
यह एक चंद्र दिन के लिए कार्य करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जो लगभग 14 पृथ्वी दिनों के बराबर है।
श्री विक्रम के पास, बैंगलोर के पास बयालू में आईडीएसएन के साथ-साथ ऑर्बिटर और रोवर के साथ संवाद करने
की क्षमता है। लैंडर को चंद्र सतह पर एक नरम लैंडिंग को निष्पादित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

दोस्तों हमारी पकिस्र्तन से कितनी भी ताना तानी हो जाये हम ऐसी गिरी हरकत नहीं करते

वाही पाकिस्तान के नेताओ और सेना के प्रमुख को समझाने के लिए सायद हमें इन्हें चाँद पर भेजना पड़ेगा

दोस्तों ये थी जानकरी कुछ चंद्रयान 2 से जुडी और ताज़ा न्यूज़ अपडेट के लिए बने रहे sarkaridna.com के साथ और अधिक जानकरी के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को फ़ॉलो करे 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest news

ग्राम उजाला योजना के तहत मात्र 10 रुपए में मिलेगा LED बल्ब

ग्राम उजाला योजना के तहत मात्र 10 रुपए में मिलेगा LED...

0
ग्राम उजाला योजना के तहत मात्र 10 रुपए में मिलेगा LED बल्ब|LED bulbs will be available for just 10 rupees under the village Ujala...

Must read

You might also likeRELATED
Recommended to you

DMCA.com Protection Status