Friday, May 20, 2022
HomeSarkari Yojanaआयुष्मान कार्ड धारको की कोरोना जांच होगी फ्री 2020 की लिस्ट...

आयुष्मान कार्ड धारको की कोरोना जांच होगी फ्री 2020 की लिस्ट में नही है 2 करोड़ परिवारों के नाम

आयुष्मान भारत योजना के लाभार्थियों के लिए कोरोना वायरस से संक्रमण की जांच निजी प्रयोगशालाओं
में और इलाज पैनल के अस्पतालों में मुफ्त होगी स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, ‘‘इस संकट की घड़ी में हमें कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई में निजी क्षेत्र को महत्वपूर्ण भागीदार के रूप में सक्रिय रूप से शामिल करना होगा। आयुष्मान भारत योजना के तहत परीक्षण और इलाज उपलब्ध कराने में प्राइवेट हॉस्पिटल और लैब को शामिल करके हमारी क्षमताएं काफी बढ़ जाएंगी और गरीबों पर इस बीमारी का असर कम होगा।’

दोस्तों अगर हम NHA की वेबसाइट की मानें तो दावा है. 12.45 करोड़ परिवार हैं PMJAY में. लेकिन
इधर सुप्रीम कोर्ट में सरकार ने गिनाए 10.74 करोड़ परिवार. यानी लगभग दो करोड़ परिवार ग़ायब
हैं लिस्ट से.

आयुष्मान भारत की लिस्ट में नही है 2 करोड़ परिवारों के नाम

PMJAY में किन परिवारों को जगह दी जाएगी, इसे 2011 में जातीय और आर्थिक आधार पर की गयी जनगणना
के आधार पर तय किया गया. लेकिन सूत्र बताते हैं कि लगभग एक दशक पुरानी हो चुकी इस जनगणना की
वजह से ही ये दिक्कतें हुई हैं.

कौन ले सकता है PM-JAY का लाभ? |ayushman bharat eligibility

PM-JAY का मकसद गरीब, वंचित ग्रामीण परिवारों और शहरी श्रमिकों के परिवारों की चिन्हित कैटेगरी को
हेल्थ बीमा का लाभ देना है. इसलिए 2011 की जनगणना को आधार मानें तो 8.03 ग्रामीण परिवार और
2.33 करोड़ शहरी परिवार इस स्कीम के दायरे में आएंगे.

शुरुआत में करीब 50 करोड़ लोग PM-JAY का लाभ उठा सकेंगे. जन आरोग्य योजना का लाभ उठाने के लिए
परिवार में सदस्यों की संख्या और उम्र की सीमा तय नहीं की गई है. यह स्कीम कैशलेश और पेपरलेस होगी.
सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में इलाज कराया जा सकेगा.

(PMJAY) की मुख्य विशेषताएं |features of ayushman bharat scheme

1.PMJAY)पूरी तरह से सरकार द्वारा वित्त-पोषित दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य बीमा/आश्वासन योजना है।

2. यह योजना भारत में सार्वजनिक व निजी सूचीबद्ध अस्पतालों में माध्यमिक और तृतीयक स्वास्थ्य उपचार के
लिए प्रति परिवार प्रति वर्ष 5 लाख रुपये तक की धन राशि लाभार्थियों को मुहया कराती है।
3.10.74 करोड़ से भी अधिक गरीब व वंचित परिवार (या लगभग 50 करोड़ लाभार्थी) इस योजना के तहत
लाभ प्राप्त कर सकतें हैं।
4.(PMJAY)सेवा संस्थान अर्थात “अस्पतालों” में लाभार्थी को स्वास्थ्य सेवाएँ निशुल्क प्रदान करती है।
5.(PMJAY)चिकित्सा उपचार से उत्पन अत्यधिक ख़र्चे को कम करने में मदद करती है, जो प्रत्येक वर्ष लगभग 6 6.करोड़ भारतीयों को गरीबी की रेखा से नीचे पहुचा देता है।
7.इस योजना के तहत अस्पताल में भर्ती होने से 3 दिन पहले और 15 दिन बाद तक का नैदानिक
उपचार, स्वास्थ्य इलाज व दवाइयाँ मुफ्त उपलब्ध होतीं हैं।

Features of ayushman bharat scheme

8.इस योजना के तहत परिवार के आकार, आयु या लिंग पर कोई सीमा नहीं है।
इस योजना के तहत पहले से मौजूद विभिन्न चिकित्सीय परिस्थितियों और गम्भीर बीमारियों को पहले दिन
से ही शामिल किया जाता है।
(PMJAY)एक पोर्टेबल योजना हैं यानी की लाभार्थी इसका लाभ पूरे देश में किसी भी सार्वजनिक या निजी
सूचीबद्ध अस्पताल में उठा सकतें हैं।
इस योजना में लगभग 1,393 प्रक्रियाएं और पैकिज शामिल हैं जैसे की दवाइयाँ, आपूर्ति, नैदानिक सेवाएँ,
चिकित्सकों की फीस, कमरे का शुल्क, ओ-टी और आई-सी-यू शुल्क इत्यादि जो मुफ़्त उपलब्ध हैं।
स्वास्थ्य सेवाओं के लिए निजी अस्पतालों की प्रतिपूर्ति सार्वजनिक अस्पतालों के बराबर की जाती है।

PMJAY के तहत लाभ |Benefits of ayushman bharat yojana in hindi

भारत में कई सरकारी वित्त-पोषित स्वास्थ्य बीमा योजनाओं रही है जिनके अंतर्गत विभिन्न राज्यों में प्रति
परिवार 30,000 रुपये से लेकर 3,00,000 रुपये तक की धन राशि प्रदान की जाती थी जो असमानता
उत्पन करती थीं। (PMJAY) समस्त लाभार्थियों को सूचीबद्ध माध्यमिक और तृतीयक स्वास्थ्य सेवाओं के
लिए प्रति परिवार प्रति वर्ष 5,00,000 रुपये मुहैया कराती है। इस योजना के तहत निम्नलिखित उपचार
निशुल्क उपलब्ध हैं।

1.चिकित्सिक परीक्षा, उपचार और परामर्श
2.अस्पताल में भर्ती से पूर्व ख़र्चा
3.दवाइयाँ और चिकित्सा उपभोग्य
4.गैर-गहन और गहन स्वास्थ्य सेवाएँ
5.नैदानिक और प्रयोगशाला जांच
6.चिकित्सा आरोपण सेवाएं (जहां आवश्यक हो)
7.अस्पताल में रहने का ख़र्चा
8.अस्पताल में खाने का ख़र्चा
9.उपचार के दौरान उत्पन्न होने वाली जटिलताएँ
10.अस्पताल में भर्ती होने के बाद 15 दिनों तक की देखभाल

आयुष्मान भारत योजना में 5,00,000 रुपये का लाभ मिलता है

इस योजना में 5,00,000 रुपये का लाभ पूरे परिवार को मिलता है, यानेकि इसका उपयोग परिवार
के एक या सभी सदस्यों द्वारा किया जा सकता है। RSBY योजना के तहत पाँच सदस्यों की पारिवारिक
सीमा थी। उन योजनाओं से सीख लेते हुए, (PMJAY)की संरचना इस प्रकार की गई है कि परिवार के
आकार या सदस्यों की उम्र पर कोई सीमा नहीं रखी गई है। इसके एलवा, पहले से मौजूद विभिन बीमारियों
को इस योजना में पहले दिन से ही शामिल किया जाता है। इसका मतलब यह है कि (PMJAY)में नामांकित
होने से पहले किसी भी क़िस्म की बीमारी या स्वास्थ्य अस्थिथि से पीड़ित व्यक्ति उन सभी चिकित्सीय
परिस्थितियों के लिए, और साथ ही पीएम-जय योजना के तहत सारे उपचार, प्राप्त करने के लिए पहले
दिन से ही लाभार्थी है।

आयुष्मान भारत योजना लिस्ट 2020 कैसे देखे?

देश के इच्छुक लाभार्थी Pradhanmantri Jan Arogya List Online देखना चाहते है तो वह नीचे दिए
ऑप्शन को फॉलो करे ।

1.Search by Name
2.Search by HHD Number
3.Search by Rationcard Number
4.Search by Mobile Number
5.Search by MMJAA ID

1.इसके लिए सबसे पहले आपको https://mera.pmjay.gov.in/search/login पर Click करे
2.इसके बाद यहा पर दिए गये आपको अपना मोबाइल Enter करे
3.और इसके बाद दिया गया कप्चा फिल करे
4.दिया गया कप्चा फील करने के बाद Generate OTP के Option पर क्लिक करे
5.और इसके बाद 6 digit OTP enter करे
6.और इसके बाद चेक बॉक्स पर टिक करके Submit के बटन पर Click करे

7. इसके बाद आपको यहा पर अपनी Details Fill करे

8. सभी Details फिल करने के बाद आपको नीचे दिए गये Search बटन पर क्लिक करने के बाद

अगर आपका नाम आयुष्मान भारत योजना लिस्ट में है तो आपकी Details show हो जाएगी

9. इसके बाद आप  Family Details पर क्लिक करे और अपनी सभी एक बार चेक कर ले

ayushman bharat registration,ayushman bharat eligibility,ayushman bharat website,
ayushman bharat hospital list,ayushman bharat yojana eligibility,ayushman bharat yojana
list,ayushman bharat list,ayushman bharat states list,ayushman bharat login,ayushman
bharat scheme eligibility,ayushman bharat yojana registration,how to apply for ayushman bharat

ताज़ा न्यूज़ अपडेट के लिए बने रहे sarkaridna.com के साथ और अधिक जानकरी के लिए आप हमारे Youtube Videos देख सकते है Video देखने के लिए नीचे दिए गये Youtube icon पर Click करे

sarkaridna Youtube

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular