Home Sarkari Yojana अगर पत्नी करे झूठा केस तो कैसे बचे पति जान le पूरी...

अगर पत्नी करे झूठा केस तो कैसे बचे पति जान le पूरी जानकारी मिलेगी

0
243

अगर पत्नी करे झूठा केस तो कैसे बचे पति जान ले पूरी जानकारी मिलेगी

हैल्लो दोस्त मै पंखुड़ी कश्यप आज आप को बताने वाली हूँ की अगर पत्नी करे झूठा केस तो कैसे
बचे इसके बारे में हम आप आज बताये गे

दहेज उत्पीड़न में अब तुरंत होगी राहत 

बता दें कि दहेज प्रताड़ना के मामले में सीधी गिरफ्तारी पर रोक के आदेश को चुनौती देने वाली याचिका पर सुप्रीम
कोर्ट ने इसी साल अप्रैल महीने को फैसला सुरक्षित रख लिया था। पिछले साल जुलाई महीने में सुप्रीम कोर्ट की दो
सदस्यीय पीठ ने दहेज प्रताड़ना अधिनियम के हो रहे दुरूपयोग के मद्देनजर कुछ दिशानिर्देश जारी किए थे,
जिसके बाद मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ ने दहेज उत्पीड़न कानून के
दुरूपयोग को रोकने के मद्देनजर दो सदस्यीय पीठ द्वारा दिशानिर्देश बनाने केनिर्णय पर पुन:
परीक्षण करने का निर्णय लिया

यह भी पढ़े शादी अनुदान योजना ऑनलाइन आवेदन कैसे करें

झूठा केस हो तो क्या करे पति 

झूठा केस लगा है तो आप परेशान या घबराएं नहीं बल्कि खुलकर उसका विरोध करें।

और आप झूठी शिकायत पर आईपीसी के अंतर्गत शिकायतकर्ता, गवाह और पुलिस पर भी केस कर सकते हैं।

पत्नी ने झूठी शिकायत की है तो आप भी इसकी शिकायत पुलिस में करें। उच्च अधिकारियों के सामने पूरा मामला लाएं।

कई बार ऐसे केस में पुलिस एफआईआर के नाम पर डराती है, ऐसे में डरें नहीं बल्कि अपने वकील के

जरिए पुलिस से बात करें।

पुलिस पुख्ता सबूत मिलने पर ही आपके खिलाफ केस कर सकती है।

यह भी पढ़े कोर्ट मैरिज कैसे करें kaese kare online court marriage 2019

दहेज़ प्रथा में कौन सी धारा लगती है 

इस दहेज़ प्रथा में 498 A दहेज प्रताड़ना केस में गिरफ्तारी से पहले सिविल सोसाइटी कमेटी की जांच और गाइडलाइन

जारी करने के दो जजों की बेंच के फैसले को पलटा जाए या नहीं, सुप्रीम कोर्ट में तीन जजों की बेंच

ने इस पर फैसला सुनाया है.

पिछले साल जुलाई में सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि आईपीसी की धारा-498 ए यानी दहेज

प्रताड़ना मामले में गिरफ्तारी सीधे नहीं होगी. सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि दहेज प्रताड़ना मामले को देखने के लिए

हर जिले में एक परिवार कल्याण समिति बनाई जाए

यह भी पढ़े कानून की इस धारा के तहत मिल सकती है सजा-ए-मौत

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here