नमस्कर दोस्तों -मै मोना शुक्ला आज आपको बतायेगे की  एयर टिकट की बुकिंग कैसे करे

तो दोस्तों हम आपको आज इसके बारे में आपको विस्तार से बताते हैएयरलाइंस कंपनियों का किराया डायनेमिक है.

इसलिए अगर इन 5 बातों को ध्यान में रखेंगे तो आपको फ्लाइट टिकट बुक कराने में काफी बचत होगी.और आने जाने में दिक्कत नही होगी अब हवाई जहाज से यात्रा हम सब की जरूरत बन चुकी है

देश में रेल सफर की खराब हालत के चलते लोग समय से अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए फ्लाइट को वरीयता दे रहे

पिछले साल 10 करोड़ लोगों ने घरेलू रुट्स पर उड़ान भरी और करीब 5.5 करोड़ ने लोगों ने विदेश यात्रा की

आज कल तो टिकट बुक करना बहुत नही आसान हो गया है घर  बैठे बुक करा सकते है

आपको बहार जाने की जरुरत नही होगी अब हम आपको बतायेगे की कैसे बुक कराये एयर टिकाट

कब और कैसे बुक करे एयर टिकट 

फ्लाइट के टेक ऑफ करने के बाद एयरलाइंस कंपनी टिकट नहीं बेच सकती.

इसलिए ज्यादातर एयरलाइंस कंपनियां जल्दी से जल्दी सीटें भरना चाहती हैं.

इसे देखते हुए जितना जल्दी हो सके अपना टिकट बुक करा लें.अगर आप जल्दी ही टिकेट बुक करते है तो आपको सस्ता पड़ेगा

एयरलाइंस फ्लाइट्स के टिकट कई महीने पहले बेचना शुरू कर देती हैं

और इसमें किराया तय करने के लिए अलग सिस्टम है 

इसमें यह भी सिस्टम है जितना आपका किराया होगा उसी प्रकार आपको सिस्टम दिया जायेगा

एयरलाइंस कंपनियों की जो किराये तय करने की प्रक्रिया है वह उत्पादकता प्रबंधन पर आधारित है यानी जिसे यील्ड मैनेजमेंट कहा जाती है.

एयरलाइंस कंपनियों का मकसद हर पैसेंजर किलोमीटर (आरपीकेएम) पर अधिकतम रेवेन्यू कमाना है.और आपको इसके सारे नियम मानाने होगे

होटल, ट्रैवल कंपनी और भारतीय रेलवे भी इसी तरह के फार्मूले को अपनाते हैं.

साल 2016 में आरपीकेएम 4 रुपये के करीब पहुंच गया था यानी 4 रुपये में एक किलीमीटर. आंकड़े देखें

तो आप पाएंगे कि यात्री करीब उतना ही किराया चुका रहे हैं

जितना वह बस या ट्रेन की यात्रा में चुका रहे हैं. एयरलाइंस से सफर करने वालों की मांग बस और ट्रेन की तुलना में बढ़ रही है

टिकट रिफंडेबल है या नहीं, 2500 है कैंसिलेशन फीस

सस्ते ऑफर की वजह से सीटें जल्दी भरती हैं इसलिए अगर किसी ने टिकट कैंसल किया तो एयरलाइंस की जेब में कुछ तो पैसा आएगा.

इसलिए अगर आपकी यात्रा में दुविधा की स्थिति है तो हमेशा रिफंडेबल टिकट ही खरीदें.

एयरलाइंस (ट्रैवल एजेंट्स ) कंपनियां टिकट रिफंडेबल है या नहीं इसके बारे में पहले ही जानकारी दे देती हैं.

इसके अलावा एयरलाइंस कंपनियां ये भी बता देती हैं कि नॉन रिफंडेबल टिकट पर कैंसिलेशन फीस कितनी है.

अगर आपने 3000 रुपये की फ्लाइट बुक की है तो इसे कैंसिल कराने पर आपको महज 500 रुपये वापस मिलेंगे. कई बार टिकट 2500 से भी नीचे खरीदा गया तो तो आपके हाथ में कुछ नहीं आएगा.

कई कई बार बीच वाली लाइन में सस्ता रहता है टिकट

अपनी सीटें बेचने के लिए एयरलाइंस कंपनियां कई हथकंडे अपनाती हैं.

ये एयरलाइंस ग्राहकों को एक ही फ्लाइट में अलग-अलग किराए का विकल्प देती हैं.

आमतौर पर इकनॉमी क्लास में बीच वाली कतार में चेक इन बैगेज की अनुमति नहीं होती है.

इसमें खाना भी नहीं रहता लेकिन ये टिकट सस्ते पड़ते हैं.

अगर आप खाना भी चाहते है तो टिकट आपको मंहगा हो सकता है

अगर टिकट के साथ खाना शामिल न हो तो बेहतर है

कि आप फ्लाइट में ही खाना आर्डर करिये. इससे भी आपको काफी बचत होगी

यह भी पढ़े –अब ट्रेनों के इंजन में भी लगेगा विमानों की तरह ब्लैक बॉक्स 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here