गुम या चोरी हुआ मोबाइल वापस मिलना आसन हो सकता है

मोबाइल चोरी होने पर शिकायत करने की प्रक्रिया को सरकार आसान बनाने जा रही है

सरकार के हेल्पलाइन नंबर पर जानकारी देते ही आपकी शिकायत दर्ज हो जाएगी

इससे आपको मोबाइल चोरी होने की शिकायत दर्ज कराने के लिए आपको इधर-उधर भटकना नहीं पड़ेगा

दोस्तों मेरा नाम है अरुन और हम आज अपनी इस पोस्ट में जानकारी देने वाले की की अगर आपका मोबाइल फ़ोन

कही गुम या चोरी हो जाता तो आपको की करना होता है

दरअसल मोबाइल गुम होने या चोरी होने की घटनाएं बढ़ रही हैं

पुलिस में शिकायत करने पर भी जल्द राहत नहीं मिलती

कुछ दिनों के इंतजार के बाद अक्सर लोग मायूस हो जाते हैं.अगर आपने भी ऐसी स्थितियों का सामना किया है तो अब आपकी मुश्किल आसान हो सकती है

मोबाइल चोरी की शिकायत को लेकर केंद्र सरकार की ओर से हेल्पलाइन नंबर 14422 जारी किया है।

इस पर फोन करके आप अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

इतना ही नहीं शिकायत के तुरंत बाद ही आपका मोबाइल सिम बंद कर दिया जाएगा।

हेल्पलाइन नंबर पर शिकायत के बाद तुरंत ही उस इलाके पुलिस और सेवा प्रदाता

मोबाइल कंपनी इसकी खोज में जुट जाएगी। ऐसे में आपका मोबाइल वापस भी मिल सकता है।

दूरसंचार मंत्रालय जल्द करेगा शुरू

दूरसंचार प्रौद्योगिकी केंद्र (सी-डॉट या C-DOT) ने चोरी या गुम मोबाइल का पता लगाने के लिए सेंट्रल इक्विपमेंट आईडेंटिटी रजिस्टर (सीईआईआर यानी CEIR) तैयार कर लिया है

इस तकनीक से मिल सकता है आपका मोबाइल

सेंट्रल इक्विपमेंट आईडेंटिटी रजिस्टर (सीईआईआर) में देश के हर नागरिक का मोबाइल मॉडल, सिम नंबर और आईएमईआई नंबर है।

मोबाइल के मॉडल पर निर्माता कंपनी की ओर से जारी आईएमईआई नंबर के मिलान की तकनीक सी-डॉट ने ही विकसित किया है।

इसे अलग-अलग फेज में राज्यों की पुलिस को सौंप दिया जाएगा।

मोबाइल के खोने पर शिकायत दर्ज होते ही पुलिस और सेवा प्रदाता मोबाइल मॉडल और आईएमईआई का मिलान करेंगी।

अगर आईएमईआई नंबर बदला जा चुका होगा, तो सेवा प्रदाता उसे बंद कर देंगी,

हालांकि सेवा बंद होने पर भी पुलिस मोबाइल ट्रैक कर सकेगी।

दोस्तों कही पर भी हो आप अपनी फ़ोन के चोरी होने की शिकायत दर्ज कर सकते है

दोस्तों भारत सरकार के द्वारा जारी किये गये 14422 हेल्पलाइन नंबर से आप देश के किसी भी कोने से आपनी शिकायत दर्ज करा सकते है
जैसे ही मोबाइल फोन चोरी की शिकायत हेल्पलाइन नंबर की जाएगी तुरंत ही ये सिस्टम काम करने लगेगा।

सी-डॉट के मुताबिक शिकायत मिलने पर मोबाइल में कोई भी सिम लगाए जाने पर नेटवर्क नहीं आएगा, लेकिन उसकी ट्रैकिंग होती रहेगी।

बता दें कि आईएमईआई नंबर बदलने पर तीन साल की सजा और जुर्माने का प्रावधान है

दोस्तों आपको हमारी पोस्ट कैसी हमारे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरुर बतना और ऐसी ही ताज़ा न्यू अपडेट पाने के लिए जुड़े रहे हमारे साथ और साथ हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए क्लीक करे

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here